सोमवार, 18 जुलाई 2011

मुल्क पर हमले होते रहेंगे........

भारत देश मे आए दिन होते आतंकी हमलो पर कवि की कलम बोली:

मुल्क पर हमले होते रहेंगे........
लोग लाशो पर रोते रहेंगे
सिंदूर , राखी सब खाक मे मिलेंगे,
अगर देश के रखवाले सोते रहेंगे


रोज एक नया कसाब होगा,
रोज एक नया ताज होगा
जॅयैपर हो या दिल्ली हो, या मुंबई की चौखट हो
सारा इलाक़ा लहू से सॉफ होगा
बीज बबूल के बोते रहेंगे
देश के रखवाले सोते रहेंगे,
आशा नही पूरा यकीन है मुझे
मुल्क पर हमले होते रहेंगे


लो एक लाश और एक लाश
सुकून मिलता है उन्हे देख लाश पर लाश
इंसाफ़ मे कमी या इंसान मे कमी
मौसम ही एसा है या आँख मे नमी है,
हाथ पर है हाथ ,वक़्त खोते रहेंगे
देश के रखवाले सोते रहेंगे
आशा नही यकीन है"प्रभात"
मुल्क पर हमले होते रहेंगे


रोज होते रहेंगे, हर रोज होते रहेंगे
अगर देश के रखवाले सोते रहेंगे


प्रभात कुमार भारद्वाज"परवाना"


3 टिप्‍पणियां:

Neeraj Dwivedi ने कहा…

Mausam hi aisa hai yaa ankh me nami hai ..

Bahut hi acchi rachna ..

SARITA ने कहा…

gar hua mulk nahaya lahuse, gar dunia mein bisphoton ki gunj hui, kyun de kisiko balaye, ham bhi kahan jage hue the? naak ke niche pardeshi kal bhi loot liya tha aaj bhi, desh mera kal bhi ro rahatha aaj bhi... sote rakhwalon ko khich khada karna hamari jimmedaari hai, aap ke haat mein kalam bhi hai man mein chingari bhi ... takat itni hai hamare andar chikh de to aashmaan fata sakte hai abhi. bolo gar saath do ek ek kar jagadun, desh ki rananitiyon ko aaj ek basudev dun.... CHHALO MAAT CHHALO MAAT MERE DESH KI DHARTI KO , ANGARAA HUN JALAKE RAKHDUN TERE AMANUSHIK IRADON KO, " PRABHAT, CARRY ON ... DESH AAJAEGA PICHHE , JAHAN SACHHAI KI NIRGHOSH HO."

shamil ने कहा…

bhai bahut jabar likha hain