शुक्रवार, 8 जून 2012

पढ़ा लिखा युवा क्यू भटक रहा है ???


मित्रो बात ३ जून की है,, बाबा रामदेव जी के धरने वाले दिन की,
जंतर मंतर पर मेरे दूर -दराज से मित्र और कई प्रशन्शक मिलने आए थे..
अब कोई इतना दूर से आए और मैं ना जाउ. एसा नही हो सकता..
गुजरात से स्वामी जी, जे. पी. जी, बृजेश भाई , जनार्दन भाई और भी करीब ३०-४० राष्ट्रवादी भाई जमा हुए थे,
और आग्रह हो गया एक कविता का.
कविता का अचानक से आग्रह होने पर कुछ पंक्तिया सुनाई जिन्हने बृजेश भाई ने कैमरे मे क़ैद कर लिया.. http://youtu.be/VJfBmK9pGIM
इन पंक्तियो मे कुछ एसि पंक्तिया है जिन मे बताया गया है आज का पढ़ा लिखा युवा क्यू भटक रहा है

-- >युवा पढाई कि बजाय आसान रास्ते से पैसा कमाने कि क्यों सोच रहा है,
-->युवा चोरी डकैती और लूटपाट कि तरफ क्यों भाग रहा है,
-->हैकिंग में युवाओं का रुझान क्यों बढ गया है,
-->ए टी एम् तोडना , नशीले पदार्थो कि बिक्री, काले धंधे पढ़ा लिखा युवा क्यों अपना रहा है,,
आपके सामने एक विडिओ रखता है, देखिये और अगर आपको मेरा नजरिया पसंद आये तो शेयर भी करे
http://youtu.be/VJfBmK9pGIM


---------------------------------कवि  प्रभात कुमार भारद्वाज"परवाना"
 वेबसाईट का पता:- http://prabhatkumarbhardwaj.webs.com/

1 टिप्पणी:

nagender nikhil ने कहा…

बहुत खूब