रविवार, 9 अक्तूबर 2011

जीता हूँ जंग जब से, सब जानने लगे है....

जीता हूँ जंग जबसे, सब जानने लगे है,
कल तक थे जो पराये, अपना मानने लगे है...........

बहता था जो पसीना, वरदान मैंने माना,
मेहनत को ही सदा से भगवान् मैंने मैंने,
बढता रहा मै पथ पर ,पर आस के लगाकर
बैठे थे राह में कुछ, ताश से बिछाकर

पथ चिन्ह मेरे पथ, परिजन छानने लगे है,
जीता हूँ जंग जबसे, सब जानने लगे है..

राहे बहुत कठिन थी मै मानता था लेकिन,
कुछ करके ही रहूँगा मै जानता था लेकिन
आज पा लिया है उसको जो दूर था चमन में
अब थक गया हूँ यारो, शरण तो अमन में

अनजान कल के चेहरे पहचानने लगे है
जीता हूँ जंग जबसे, सब जानने लगे है,

कल तक थे जो पराये, अपना मानने लगे है...........
जीता हूँ जंग जबसे, सब जानने लगे है ..........

प्रभात कुमार भारद्वाज"परवाना"




6 टिप्‍पणियां:

Reena Maurya ने कहा…

well written

kulbhushan gaikwad ने कहा…

Bahot Hi Achchi Kavitaa Likhi Hai Aapane Insaan Ke Jivan Snaghrsh Ke Baare Me Aur Sachchai Chode Bina Bahot-Khub Tarike Se Ise Sammapt Bhi Kiyaa aapane .....Aapke Is Kavita Ki EK Pankati Mujhe Bahot Hi Pasand Aayi O Kal Tak THe Jo Paraye,Apanaa Manane Lage Hai ....Jita Hu Jang Jabase, Sab Janane Lage Hai ...Vakai Aapaki Ye Kavita Kabile Tarif Hai ,,, Mai aapako Dil Aur Dimaag Se Salaam Kartaa Hu ....Jai Hind

dharmeandera.singh ने कहा…

prabhat kumar ji mujha lagta he ke aap kese apna sa dil par choat khaya hoya ho

ranesh .....d man trying to be lawyer ने कहा…

kavita mein kafi jaan hai , ye sacchai hai , kitne bhi acche ho , jab tak kuch pa na lo koi puchta nahi

V M BECHAIN ने कहा…

good.. bhai wastv mein aapne sahi baat kahi h.. bure wqt mein jo log sath chhod dete h or achhe time mein nzdik aa jate h un salon ko rishtedaar kahte hai,, good bhai psnd aai aapki rachna

Rahul Yadav ने कहा…

Atmavishvas aur swabhimaan jhalak raha hai... shandaar