सोमवार, 13 जून 2011

खुदा बिक गया.....

जश्न का मजा कुछ इस तरह आता है हार में
वो खुद बिक चुकी है मुझे बेचने के इन्तजार में
खरीदने वाले भी कुछ इस मिजाज के
कीमत लगा रहे है दो और चार में
जिन पर उन्हें गुरुर था बहुत
नजर आये वो खरीदारो की कतार में
खुदा से मांगी मदद उन्होंने दिल से
तो हम नजर आये उनके अश्रु की धार में
खुदा बिक गया, हालातो का जोर था
ताकत ही इतनी थी मेरे प्यार में


प्रभात कुमार भारद्वाज"परवाना"



3 टिप्‍पणियां:

A.H.Ansari ने कहा…

Matalab= iss sher me shayar kahta hai ki uski mahboob jab usko iss dunia ke bajar me bechana chaha to wo iss ka sahi dam na laga saka, log iss shayar ki kimat itani kam lagaye ki us ka mahboob rone laga, aur khuda se friyad kiya ki kya iss ki kimat sirf itani hi thi, to khuda bhi aise sharminda hoker munh fer liya jaise wo bhi bik chuka ho, aur jab uska mahboob ye dekh kar rone laga to uss ki ansuwon me shayar nazar ane laga, jo ki sabse kimti the....... kahane ka matlab ye hai ki iss jahan me acche logon ki kya kimat hai ye dunia wale nahi jante aur na hi unki kimat wo pahchante hain, iss jahan me sirf achhe logon ko ruswai aur beijjati hi milti hai aur allah bhi kuchh nahi kar pata unke liye,

MALLHARI RAJENDRA KUTMULGE ने कहा…

Bahot badhiya hai yar tum bahot aage badoge ek din

SARITA ने कहा…

good poem